Earthquake – भूकंप के जोरदार झटके ताजिकिस्तान से कश्मीर तक दर्ज की गई खतरनाक तीव्रता

Must Try

मंगलवार सुबह 7 बजे ताजिकिस्तान में भूकंप आया। नेशनल सीस्मोलॉजी सेंटर के अनुसार, इसका केंद्र राजधानी दुशांबे से 341 किलोमीटर पूर्व-दक्षिण पूर्व में था। 6.8 तीव्रता के इस भूकंप के झटके महसूस किए गए। वहीं, अधिकारियों के मुताबिक, कश्मीर में तजाकिस्तान में भी भूकंप महसूस किया गया। जम्मू-कश्मीर में 5.8 तीव्रता का भूकंप आया। इसका Epicenter ताजिकिस्तान में था।

tajistan_earthquake

जम्मू-कश्मीर के कुछ इलाकों में मंगलवार सुबह भूकंप के झटके महसूस किए गए। लोगों को अपने घरों से बाहर आने लगे। बता दें कि पिछले दिनों जम्मू-कश्मीर में कई बार भूकंप के झटके महसूस किए गए हैं। इससे पहले जम्मू-कश्मीर में सोमवार सुबह 4.36 बजे भूकंप के झटके महसूस किए गए थे। रिक्टर स्केल पर इसकी तीव्रता 3.2 थी।

वहीं, 9 जून को जम्मू-कश्मीर में सुबह भूकंप के झटके महसूस किए गए। यह बताया गया कि भूकंप के झटके 9 जून को सुबह 8:16 बजे महसूस किए गए थे। रिक्टर पैमाने पर इसकी तीव्रता 3.9 थी। भूकंप का केंद्र श्रीनगर से 14 किलोमीटर उत्तर और गांदरबेल्ट से 7 किलोमीटर दक्षिण-पूर्व में था।

ये भी पढे -  Good Luck Sakhi Movie Download Movierulz Keerthy Suresh 2021 Telugu Movie Leaked by Bollyshare, Cinemavilla
ये भी पढे -  कृषि कानून, आरटीआई का जवाब देने से पहले सरकार के पास किसानों के साथ बातचीत का कोई रिकॉर्ड नहीं है

ताजिकिस्तान में भूकंप के समाचार एजेंसी एएनआई के ट्वीट पर एक व्यक्ति ने कहा कि मैं कश्मीर में हूं और सुबह करीब 7.45 बजे यहां भूकंप महसूस किया। वह काफी शक्तिशाली था।

आखिर क्यो आता है भूकंप ?

पृथ्वी मुख्य रूप से चार परतों से बनी है, आंतरिक कोर, बाहरी कोर, मेंटल और क्रस्ट। क्रस्ट और ऊपरी मेंटल को लिथोस्फीयर कहा जाता है। यह 50 किलोमीटर की मोटी परत कई वर्गों में विभाजित है, जिसे टेक्टोनिक प्लेट्स कहा जाता है। ये टेक्टोनिक प्लेटें अपनी जगह से हिलती रहती हैं लेकिन जब ये बहुत ज्यादा हिलती हैं तो भूकंप आता है। ये प्लेटें क्षैतिज और लंबवत दोनों तरह से अपनी जगह से हिल सकती हैं। इसके बाद वे अपनी जगह तलाशती हैं और ऐसे में एक प्लेट दूसरी के नीचे आ जाती है।

ये भी पढे -  बिग बॉस 14 मे रश्मि देसाई ने एली गोनी पर हमला करने के बाद स्पष्ट किया, कहा, ‘मैं तो सिर्फ.
earth-structure

प्लेटें क्यों टकराती हैं?

दरअसल, ये प्लेटें बहुत धीरे-धीरे घूमती हैं। इस तरह वे हर साल अपने स्थान से 4-5 मिमी आगे बढ़ जाती हैं। यदि एक प्लेट दूसरी प्लेट के पास जाती है, तो दूसरी आगे चली जाती है। ऐसे में कई बार वे टकरा भी जाते हैं।

भूकंप के केंद्र और तीव्रता का क्या अर्थ है?

भूकंप का केंद्र वह स्थान है जिसके नीचे प्लेटों में सरगर्मी भूगर्भीय ऊर्जा का उत्सर्जन करती है। इस स्थान पर भूकंप अधिक कंपन करता है। जैसे-जैसे कंपन की आवृत्ति घटती जाती है, इसका प्रभाव कम होता जाता है। हालांकि, अगर रिक्टर पैमाने पर 7 या उससे अधिक का भूकंप आता है, तो झटका 40 किमी के आसपास के क्षेत्र में तेज हो जाता है। लेकिन यह इस पर भी निर्भर करता है कि भूकंपीय आवृत्ति ऊपर या दायरे में है। यदि कंपन की आवृत्ति ऊपर है, तो निचला क्षेत्र प्रभावित होगा।

ये भी पढे -  बॉलीवुड अभिनेत्री मानुषी छिल्लर अपनी ड्रेस से प्राइस टैग हटाना भूल गईं,
ये भी पढे -  बॉलीवुड अभिनेता सलमान खान के साथ काम करने वाले गौतम गुलाटी हुये कोरोना पॉजिटिव

भूकंप की गहराई का क्या अर्थ है?

मतलब यह कि प्लेटो का खिसकना किस गहराई पर हुआ है। भूकंप की गहराई जितनी अधिक होगी, सतह पर इसकी तीव्रता उतनी ही कम होगी।

कौन से भूकंप खतरनाक हैं?

रिक्टर पैमाने पर आमतौर पर 5 तक की तीव्रता वाले भूकंप खतरनाक नहीं होते हैं, लेकिन यह क्षेत्र की संरचना पर निर्भर करता है। 5 की तीव्रता वाला भूकंप खतरनाक भी हो सकता है अगर भूकंप नदी के किनारे पर हो और वहां भूकंपीय तकनीकों के बिना ऊंची इमारतें बनी हों।

Loading...
- Advertisement -
- Advertisement -

Latest Recipes

- Advertisement -

More Recipes Like This

- Advertisement -
Khabari Londa