कुंडली मे बना हुआ है दुर्योग (दोष) तो यह आपके बड़ी सफलता की चाबी हो सकती है, ले जा सकता है आपको शिखर पर

0
29
kundali me baneduryog- safalata ki chabi

वैदिक ज्योतिष के अनुसार इस जन्म की कुंडली जातक के पिछले जन्म के कर्मो का लेखा जोखा होती है। जन्म कुंडली मे पिछले जन्मो के कर्मो के अनुसार ही राजयोग और दुर्योग या दोष का निर्माण होता है। जहां कुंडली मे बने राजयोग जातव के जीवन को सुगम बनाते है वही कुंडली मे बनने वाले दुर्योग या दोष जातक के जीवन मे संघर्ष पैदा करते है।

rajyog-duryog

जन्म कुंडली मे बने पंच महापुरुष योग तो जीवन सरल और सुगम बन जाता है

एक ऐसा योग है जिसमें जातक को सभी प्रकार के सुख मिलते हैं। यह योग अपनी राशि में पांच ग्रहों के स्थित होने एवं उच्च होकर केन्द्र में स्थित हाने पर बनता है। पांच ग्रहों मंगल,बृहस्पति, शुक्र, बुध व शनि में से किसी एक ग्रह अथवा एकाधिक ग्रहों की किसी विशिष्ट स्थिति में होने पर यह योग बनता है।

ये भी पढे -  11 जुलाई 2020 राशिफल- शनिवार 11 जुलाई का राशिफल किस राशि वालों को मिलेगा न्याय के देव शनि महाराज का साथ, जानिए कैसा रहेगा शनिवार का दिन आपके लिए

दुर्योग देते है संघर्ष के बाद बड़ी सफलता

अब आते है अपने मुख्य मुद्दे पर कुंडली मे बनने वाले दुर्योग के बारे मे केंद्रुम योग, कालसर्प योग और अनेक प्रकार के दुर्योग होने पर जातव का जीवन एक निश्चित अवधि तक के लिए संघर्ष मे बीतता है और यह संघर्ष जातक को नई ऊंचाइयों पर ले कर जाता है।

kundali me baneduryog- safalata ki chabi

संघर्ष मानव के जीवन मे बहुत बड़ा प्रभाव डालता है अब आपको उदाहरण देकर बताए तो एक समय था जब अर्नब गोस्वामी जो एक न्यूज़ चैनल मे न्यूज़ एंकर थे कुंडली बने दुर्योग के कारण उन्हे अपनी नौकरी से हाथ धोना पड़ा और संघर्ष के साथ जीवन जीना पड़ा पर यही संघर्ष उनके जीवन को नई ऊंचाइयों पर ले गया आज अर्नब गोस्वामी खुद एक न्यूज़ चैनल के मालिक है, जहां जब वो न्यूज़ एंकर थे तब बहरतीय दर्शक उनके सपोर्ट मे नही थे वहीं अब भारतीय दर्शको का एक बड़ा तबका अब अर्नब के पक्ष मे सदैव खड़ा नजर आता है।

ये भी पढे -  22 October Love and Business Rashifal (Horoscope in Hindi) – बुधवार 22 अक्टूबर 2020 का लव लाइफ और बिज़नस राशिफल

कुंडली मे बने दुर्योग या दोष मनुष्य को निखारने का काम करते है अगर सोने को तपाया न जाए तो वो निखरता नही है बस आपको सकारात्मक सोच के साथ उस संघर्ष के समय का सदुपयोग करना है। सरल और सुगम जीवन आपको ऊंचाइयों या शिखर पर नही ले जा सकता, संघर्ष ही ये कर सकता है।