मनमोहन सिंह ने कहा सम्पूर्ण भारत को एक साथ मिलकर चीन को जवाब देना होगा

Must Try

पूर्व प्रधानमंत्री डॉ। मनमोहन सिंह ने मोदी सरकार से चीन को जवाब देने की अपील की है। लद्दाख सीमा विवाद में शहीद हुए सैनिकों को श्रद्धांजलि देते हुए पूर्व पीएम मनमोहन सिंह ने कहा कि सैनिकों के बलिदान को व्यर्थ नहीं जाना चाहिए। यह वह समय है जब पूरे राष्ट्र को एकजुट होना होगा और एकजुट होकर इस साहस का जवाब देना होगा।

India-Former-PM-DO-Manmohan-Singh

पूर्व पीएम मनमोहन सिंह ने कहा, ’15 -16 जून को, भारत के 20 साहसी सैनिकों ने गालवन घाटी में सर्वोच्च बलिदान दिया। देश के इन बेटों ने अपनी अंतिम सांस तक देश की रक्षा की। हम इस सर्वोच्च बलिदान के लिए इन साहसी सैनिकों और उनके परिवारों के आभारी हैं, लेकिन उनके बलिदान को व्यर्थ नहीं जाना चाहिए।

ये भी पढे -  24 August 2020 Love and Business Rashifal (Horosocpe in Hindi) - सोमवार 24 अगस्त 2020 लव और बिज़नस राशिफल
ये भी पढे -  32 वर्षीय अभिनेत्री गाहना वशिष्ठ को पुलिस ने गिरफ्तार अश्लील वीडियो बनाने और उसकी वेब वेबसाइट पर अपलोड करने का लगा आरोप

पूर्व पीएम मनमोहन सिंह ने कहा कि आज हम इतिहास के नाजुक मोड़ पर खड़े हैं। हमारी सरकार के फैसले और सरकार के कदम यह तय करेंगे कि हमारी आने वाली पीढ़ियों का आकलन कैसे किया जाए। जो लोग देश का नेतृत्व कर रहे हैं, उनके कंधों पर एक कर्तव्य है। हमारे लोकतंत्र में, यह प्रधानमंत्री की जिम्मेदारी है।

पूर्व प्रधान मंत्री मनमोहन सिंह ने कहा कि, ‘प्रधानमंत्री को हमेशा अपने शब्दों और घोषणाओं के प्रभाव के बारे में बहुत सावधानी बरतनी चाहिए ताकि देश और दुनियावी और स्थलीय हितों की सुरक्षा हो सके। चीन ने अप्रैल से कई बार जबरन गैलवन घाटी और पैंगोंग त्सो झील में घुसपैठ की है।

ये भी पढे -  भारत ने एक साथ दो कोरोना वैक्सीन को मंजूरी देकर यह विशेष रिकॉर्ड बनाया, जानिए कहां और किन दो टीकों को मंजूरी दी गई

घुसपैठ पर, पूर्व पीएम मनमोहन सिंह ने कहा कि हम न तो उनकी धमकियों और दबाव के आगे झुकेंगे और न ही अपनी स्थलीय अखंडता से कोई समझौता करेंगे। प्रधान मंत्री को अपने बयान के साथ अपने षड्यंत्रकारी रुख को मजबूर नहीं करना चाहिए और यह सुनिश्चित करना चाहिए कि सरकार के सभी अंग इस खतरे का सामना करने के लिए आपसी सहमति से काम करें और स्थिति को अधिक गंभीर होने से रोकें। ‘

ये भी पढे -  कोविद -19 के खिलाफ भारत की लड़ाई में ऐतिहासिक क्षण टीकों की मिली मंजूरी: हर्षवर्धन

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा कि यह वह समय है जब पूरे देश को एकजुट होकर संगठित होना होगा और इस साहस का जवाब देना होगा। हम सरकार को चेतावनी देंगे कि भ्रामक प्रचार कभी भी कूटनीति और मजबूत नेतृत्व का विकल्प नहीं हो सकता है। पिछड़े सहयोगियों द्वारा प्रचारित झूठ के प्रचार के कारण सत्य को दबाया नहीं जा सकता है।

ये भी पढे -  किसान विरोध: राहुल गांधी और प्रियंका किसानों के समर्थन में राज निवास तक मार्च नहीं कर सकते थे
Loading...
- Advertisement -
- Advertisement -

Latest Recipes

- Advertisement -

More Recipes Like This

- Advertisement -
Khabari Londa