जम्मू-कश्मीर – सुरक्षा बलों ने कश्मीरी पंडित सरपंच अजय पंडिता की हत्या का लिया बदला, हत्यारे आतंकवादी को मार गिराया

0
7
कश्मीरी पंडित सरपंच अजय पंडिता

जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग में कश्मीरी पंडित सरपंच अजय पंडिता की मौत का बदला सुरक्षा बलों ने ले लिया है। हिजबुल मुजाहिदीन आतंकवादी उमर, जो पिछले सप्ताह मुठभेड़ में मारा गया था, उसने ही सरपंच पंडिता की हत्या की थी जम्मू-कश्मीर पुलिस ने आज इसका खुलासा किया।

ips-vijay-kumar

कश्मीर के आईजी विजय कुमार ने कहा कि पिछले सप्ताह हिज्बुल के दो आतंकवादी मारे गए, जिनमें उमर भी शामिल था। उमर ने सरपंच अजय पंडिता की हत्या की थी। उन्होंने कहा कि सरपंच या पंच जिसे घाटी में जान का खतरा है, पुलिस से संपर्क कर सुरक्षा ले सकते हैं।

आईजी विजय कुमार ने कहा कि उमर की पहचान प्रत्यक्षदर्शियों ने की थी। अभी फॉरेंसिक जांच रिपोर्ट आना बाकी है। उन्होंने कहा कि इस साल अब तक 94 आतंकवादी मारे गए हैं। अभी हमारा ध्यान उत्तरी कश्मीर से आतंकवाद को खत्म करने पर है।

ये भी पढे -  सरकार को गिराने की कोशिश कर रही भारतीय जनता पार्टी , विधायकों को 15 करोड़ दे रही है ऑफर - अशोक गहलोत
कश्मीरी पंडित सरपंच अजय पंडिता

8 जून को सरपंच अजय पंडिता की हत्या कर दी गई थी

गौरतलब है कि 8 जून को अनंतनाग जिले के लारीपोरा इलाके में कुछ आतंकवादी हमलावरों ने एक स्थानीय सरपंच की गोली मारकर हत्या कर दी थी। सरपंच का नाम अजय पंडिता था, जो ओंकार नाथ के पुत्र थे। सरपंच की उम्र 40 वर्ष थी। सरपंच कांग्रेस पार्टी से जुड़ा था। इसके बाद हमलावर आतंकियों की तलाश की जा रही थी।

अजय पंडिता की बेटी ने कहा – न तो मेरे पिता डरते थे, न ही मैं किसी के बाप से डरती हूं

pandita

Khabari Londa से बात करते हुए, अजय पंडिता की बेटी शीन पंडिता ने कहा कि हम कश्मीर वापस जाएंगे। न तो मेरे पापा किसी से डरते थे, न ही मैं किसी के बाप से डरती हूँ। सरकार से नाराज अजय पंडिता की बेटी ने कहा था कि मेरे पिता ने किसी कारण से सुरक्षा की मांग की थी। यह सरकार की जिम्मेदारी थी कि वह उन्हें सुरक्षा मुहैया कराए, लेकिन मांगने पर भी सुरक्षा नहीं मिली।

ये भी पढे -  US Elections 2020 - अमेरिका में पहली बार राष्ट्रपति पद की बहस 29 सितंबर को, डोनाल्ड ट्रम्प और जो बाइडेन के बीच टकराव