मिथुन संक्रांति 2020: आज 14 जून को ग्रहों के राजा सूर्य वृषभ राशि से मिथुन राशि में गोचर करेंगे

0
6
Mithun_sankranti_2020

भगवान सूर्यदेव के साथ ही मिथुन संक्रांति पर भी धरती माता की पूजा भी की जाती है। मिथुन संक्रांति उन 12 संक्रांतियों में से एक है जो वर्ष में आती हैं। इस दिन, सूर्यदेव मिथुन राशि में प्रवेश करते है। नक्षत्र की दिशा अपनी अन्य राशियों में भी बदलती है। ज्योतिषियों के अनुसार, इस दिन पूजा और अर्चना के साथ स्नान और दान का भी अपना अलग महत्व है। भारत मे बारिश का मौसम मिथुन संक्रांति के बाद शुरू होता है।

sun-transit

विशेष यह है कि यह संक्रांति पूरे देश में मनाई जाती है, हालांकि इस त्यौहार को अलग-अलग जगहों पर अलग-अलग नामों से मनाया जाता है। चार दिनों तक चलने वाले इस त्योहार को पहले दिन पहला राजा, मिथुना संक्रांति या दूसरे दिन राजा, तीसरे दिन भूमि दाहा या बासी राजा और चौथे दिन वसुमती स्नान कहा जाता है। इस दिन किसी भी रूप में चावल स्वीकार नहीं किया जाता है।

ये भी पढे -  15 September 2020 Love and Business Rashifal (Horoscope in Hindi) - दैनिक लव लाइफ और बिज़नस राशिफल मंगलवार,15 सितंबर 2020

सिल बट्टे का होता है विशेष महत्व

मिथुन संक्रांति में भगवान सूर्य की पूजा की जाती है लेकिन इस संक्रांति पर सिलबट्टे को भूदेवी के रूप में पूजा जाता है। इस दिन सिलबट्टे को दूध और पानी से नहलाया जाता है। इसके बाद, चंदन, सिंदूर, फूल और हल्दी को सिलबट्टे पर चढ़ाया जाता है। इससे पहले, कोब बट को अच्छी तरह से साफ किया जाता है, और मसाले आदि भी पीसे जाते हैं।

Mithun_sankranti_2020

ओडिशा के जगन्नाथ मंदिर में बड़ा आयोजन होता है

मिथुन संक्रांति पर ओडिशा के जगन्नाथ मंदिर में विशेष पूजा होती है। मंदिर को सजाया जाता है। विदेश से लोग यहां आते हैं। इस दौरान भूमि पर किसी भी प्रकार का कोई कार्य नहीं किया जाता है और न ही किसी प्रकार का कृषि कार्य किया जाता है। यह माना जाता है कि महिलाओं को मासिक धर्म के बाद कोई भी काम करने की अनुमति नहीं है, इसी तरह, इस दिन, धरती माँ को आराम दिया जाता है।

ये भी पढे -  8 November Love and Business Rashifal (Horoscope in Hindi) – रविवार 8 नवंबर 2020 का लव लाइफ और बिज़नस राशिफल