श्रद्धालुओ ने शुरू की भगवान जगन्नाथ की रथ यात्रा मनमोहक नजारा

Must Try

सुप्रीम कोर्ट ने भगवान जगन्नाथ की रथ यात्रा को ओडिशा के पुरी में आयोजित करने की अनुमति दी है। कोर्ट ने पहले कोरोना वायरस संकट को देखते हुए इस साल रथ यात्रा पर प्रतिबंध लगाने का फैसला किया था। कोर्ट के इस आदेश को बदलने के लिए पुनर्विचार याचिका दायर की गई थी। प्रसिद्ध अधिवक्ता हरीश साल्वे ने अदालत के आदेश को पलटने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। वह ओडिशा सरकार की ओर से अदालत में पेश हुआ।

Odisha-jagganath-rath-yatra-

साल्वे की दलीलों, जो कई प्रसिद्ध मामलों के लिए चर्चा में रही हैं, ने अदालत का मन बदल दिया और कुछ नियमों के साथ रथ यात्रा की अनुमति दी गई। इस फैसले के बाद से ओडिशा के लोग हरीश साल्वे को धन्यवाद दे रहे हैं। सोशल मीडिया पर लोग कह रहे हैं कि यह साल्वे की वजह से ही है कि रथ यात्रा के लिए अनुमति दी गई है। पुरी के शंकराचार्य ने जगन्नाथ मंदिर प्रशासन को रथ यात्रा रोकने के अदालत के फैसले पर आपत्ति जताई थी।

ये भी पढे -  रिंग ऑफ फायर’ की तरह दिखेगा सूर्य 9 सौ साल बाद बनेगा ऐसा दुर्लभ योग
ये भी पढे -  एकसाथ देख सकते हैं 6-7 हजार दर्शक इंग्लैंड VS वेस्टइंडीज टेस्ट सीरीज को

सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के दौरान, ओडिशा सरकार की ओर से साल्वे ने कहा कि यात्रा पूरे राज्य में नहीं होगी। जहां भी यात्रा होगी, वहां कर्फ्यू लगाया जाना चाहिए और यात्रा में केवल ऐसे सेवक और पुजारी को शामिल किया जाना चाहिए, जिनकी कोरोना रिपोर्ट नकारात्मक है। वहीं, सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा कि रथ यात्रा लोगों के स्वास्थ्य से समझौता किए बिना की जा सकती है, इसलिए यात्रा की अनुमति दी जानी चाहिए।

हेग, नीदरलैंड्स के अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय (ICJ) में, कुलभूषण जाधव मामले में पाकिस्तान पर आरोप लगाने वाले हरीश साल्वे ने जाधव की फांसी को रोकने में कामयाबी हासिल की थी। इस मामले में सबसे खास बात यह थी कि साल्वे ने पाकिस्तानी जेल में जाधव के केस से लड़ने के लिए सिर्फ एक रुपए फीस के तौर पर लिए थे। साल्वे के तर्कों के कारण ICJ ने भारत के पक्ष में 15-1 से शासन किया।

ये भी पढे -  Crazy Uncle Telugu Full Movie (2021) Download Hindi Dubbed leaked by Tamilblaster and Movierulz
ये भी पढे -  श्रीसंत की लंबे समय बाद टिम मे वापसी खेलेंगे रणजी ट्रॉफी

रथयात्रा की अनुमति नहीं देने के फैसले पर पुनर्विचार के लिए सुप्रीम कोर्ट द्वारा चार याचिकाएं स्थानांतरित की गईं। शीर्ष अदालत ने 18 जून को सुनवाई के दौरान कहा था कि सार्वजनिक स्वास्थ्य और सुरक्षा के हित को ध्यान में रखते हुए इस साल रथ यात्रा की अनुमति नहीं दी जा सकती। मुख्य न्यायाधीश ने कहा था कि अगर हम रथ यात्रा को इस साल आयोजित करने की अनुमति देते हैं तो भगवान जगन्नाथ हमें माफ नहीं करेंगे।

Loading...
- Advertisement -
- Advertisement -

Latest Recipes

ये भी पढे -  IPL 2020: विराट कोहली का देखिए खतरनाक परदर्शन, सामने वाली टीमों के लिए बन सकता हैं खतरा

24 February 2021 Love and Business Rashifal (Horoscope in Hindi)- बुधवार 24 फ़रवरी 2021, लव लाइफ और बिज़नस राशिफल

- Advertisement -

More Recipes Like This

- Advertisement -
Khabari Londa