लाखो दोषों को दूर करता है और आकर्षण बढ़ाता भगवान श्री कृष्ण का ‘मोरपंख’

Must Try

मोर को बहुत पवित्र माना जाता है, जो भगवान कृष्ण के मुकुट को सुशोभित करता है। घर में मोरपंख होना आवश्यक है। माना जाता है कि नकारात्मक ऊर्जा को दूर करने या आकर्षण शक्ति बढ़ाने में मोरपंख का प्रभाव बहुत अधिक है। वास्तु में मोर की उपयोगिता से जुड़े कुछ तथ्यों का उल्लेख किया गया है। आइए जानते हैं उनके बारे में।

भगवान कृष्ण की सजावट और मोरपंख के बिना पूजा अधूरी मानी जाती है। भगवान कृष्ण की मूर्ति या तस्वीर के साथ मोरपंख लगाएं। मोर को घर में रखने से नकारात्मक ऊर्जा दूर होती है। घर के मुख्य द्वार पर भगवान श्रीगणेश की मूर्ति के साथ दो मोर पंख रखें। ऐसा करने से नकारात्मक ऊर्जा और विषाणु घर में प्रवेश नहीं कर पाएंगे।

ये भी पढे -  श्रद्धालुओ ने शुरू की भगवान जगन्नाथ की रथ यात्रा मनमोहक नजारा
mor-pankh-krishna

अगर बच्चे का पढ़ाई में मन नहीं लगता है तो बच्चे की किताबों में मोर के पंख लगाएं। ऐसा करने से बच्चे की एकाग्रता बढ़ेगी। यदि बच्चा जिद्दी है, तो उसे मोर के बने पंखे से हवा दें। ऐसा करने से उसका व्यवहार बदल जाएगा। बच्चे के हाथ पर मोरपंख बांध कर रखने से बच्चा कभी नहीं देखता और सपने देखता है।

ये भी पढे -  श्रद्धालुओ ने शुरू की भगवान जगन्नाथ की रथ यात्रा मनमोहक नजारा
mor-pankh

अपने साथ पीले रेशमी कपड़े में लपेटे हुए मोर पंख हमेशा रखें। ऐसा करने से आकर्षण शक्ति बढ़ती है। आग्नेय कोण में मोरपंख लगाने से घर के वास्तु दोषों को ठीक किया जा सकता है। किसी मंदिर में जाएं और श्रीराधा-कृष्ण की मूर्ति के पास मोरपंख रखें। 40 दिनों तक पूजा करने के बाद इसे घर में लाएं। ऐसा करने से सभी बुरे काम होने लगेंगे। अगर पति-पत्नी के बीच तनाव रहता है, तो बेडरूम में पूर्व या दक्षिण-पूर्व दिशा में मोर पंख रखें।

ये भी पढे -  अयोध्या मे बनेगा पाँच गुंबद, ओर 128 फिट ऊंचा भव्य राम मंदिर
Loading...
ये भी पढे -  अयोध्या मे बनेगा पाँच गुंबद, ओर 128 फिट ऊंचा भव्य राम मंदिर
- Advertisement -
- Advertisement -

Latest Recipes

- Advertisement -

More Recipes Like This

- Advertisement -
Khabari Londa