HomeInternational Hindi Newsपाकिस्तान में अल्पसंख्यक समुदाय के इलाके में आत्मघाती हमला, चार जवानों की...

पाकिस्तान में अल्पसंख्यक समुदाय के इलाके में आत्मघाती हमला, चार जवानों की मौत, 20 घायल

पाकिस्तान के बलूचिस्तान प्रांत में रविवार को आतंकवादी संगठन तहरीक-ए-तालिबान (टीटीपी) के एक आतंकवादी के आत्मघाती हमले में सुरक्षा बलों के कम से कम चार जवान शहीद हो गए और 20 अन्य घायल हो गए। क्वेटा पुलिस के उप महानिरीक्षक अजहर अकरम ने कहा कि हमलावर ने क्वेटा में मस्तुंग मार्ग पर एक फ्रंटियर कोर पोस्ट को निशाना बनाया था। उन्होंने नामा निगार्स को बताया कि प्रारंभिक जांच से संकेत मिलता है कि आत्मघाती हमलावर विस्फोटकों से लदी बाइक पर सवार था और उसने अपनी बाइक को फ्रंटियर कॉर्प्स कर्मियों को ले जा रहे एक वाहन में टक्कर मार दी। प्रधानमंत्री इमरान खान ने हमले की निंदा की है.

अजहर अकरम ने कहा कि बम निरोधक दस्ते ने अनुमान लगाया है कि बाइक छह किलोग्राम विस्फोटक ले जा रही थी. अकरम ने पुष्टि की कि विस्फोट में चार लोग मारे गए और 20 अन्य घायल हो गए, जिनमें 18 सुरक्षाकर्मी और दो राहगीर शामिल हैं। उनके मुताबिक मरने वालों की संख्या बढ़ सकती है। बलूचिस्तान के आतंकवाद निरोधी विभाग के अनुसार, विस्फोट एक “आत्मघाती हमला” था और सोना खान चौकी के पास हुआ।

Suicide attack in minority community area in Pakistan, four soldiers killed, 20 injured

आतंकी संगठन तहरीक-ए-तालिबान (टीटीपी) ने हमले की जिम्मेदारी ली है। यह इंगित करता है कि काबुल में सत्ता परिवर्तन के बावजूद पाकिस्तान की मुश्किलें खत्म नहीं हो रही हैं, क्योंकि देश को उम्मीद थी कि तालिबान अफगानिस्तान में छिपे टीटीबी आतंकवादियों पर नकेल कसेगा। सुरक्षा बलों ने कहा कि हमले में जिस वाहन को निशाना बनाया गया था, उसे हजारा समुदाय के सब्जी विक्रेताओं की सुरक्षा के लिए तैनात किया गया था।

प्रधानमंत्री इमरान खान ने ट्वीट कर कहा कि शहीदों के परिवारों के प्रति मेरी संवेदना है और मैं घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की प्रार्थना करता हूं। बलूचिस्तान के गृह मंत्री मीर जियाउल्लाह लांगोव ने भी हमले की निंदा की है। उन्होंने कहा कि सुरक्षा बलों ने आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में अनगिनत कुर्बानियां दी हैं। पूरा देश शहीदों का ऋणी है। विपक्षी दल पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन) के सदर शाहबाज शरीफ ने भी हमले की निंदा की और कहा कि बिगड़ती कानून व्यवस्था चिंता का विषय है।