HomeHindi Newsमुस्लिम धार्मिक लोगों के लिए भी काल बना तालिबान, मौलवी मोहम्मद सरदार...

मुस्लिम धार्मिक लोगों के लिए भी काल बना तालिबान, मौलवी मोहम्मद सरदार जादरान को आंखों पर पट्टी बांधकर कैद किया

अफगानिस्तान पर कब्जा करने के बाद तालिबान उन लोगों को निशाना बना रहा है जिन्होंने कभी इसके खिलाफ हथियार उठाए थे। इस कड़ी में तालिबान धर्म के लोगों को भी नहीं छोड़ रहा है। ऐसा इसलिए कहा जा रहा है क्योंकि तालिबान ने सोमवार को अफगानिस्तान के जाने माने धर्मगुरु मौलवी मोहम्मद सरदार जादरान को गिरफ्तार कर लिया।

मौलवी मोहम्मद सरदार जादरान अफगानिस्तान के ‘धार्मिक विद्वानों की राष्ट्रीय परिषद’ के प्रमुख रह चुके हैं। तालिबान ने एक तस्वीर जारी करके मौलवी की गिरफ्तारी की पुष्टि की, जिसमें मौलवी आंखों पर पट्टी बांधे नजर आ रहे हैं।

इससे पहले तालिबान ने तालिबान से लड़ने के लिए हथियार उठाने वाली अफगानिस्तान की पहली महिला गवर्नर सलीमा मजारी को हिरासत में लिया था। ऐसे समय में जब कई अफगान राजनीतिक नेता देश छोड़कर भाग गए थे, सलीमा मजारी बल्ख प्रांत के आत्मसमर्पण तक रुकी रही, हालाँकि उसने आत्मसमर्पण कर दिया जब तालिबान ने इस क्षेत्र पर कब्जा कर लिया।

रिपोर्टों में कहा गया है कि विद्रोहियों द्वारा पूरे देश पर नियंत्रण हासिल करने के बाद तालिबान ने महिला नेता को पकड़ लिया था। राष्ट्रपति अशरफ गनी सहित कई अफगान नेता देश छोड़कर भाग गए।

taliban

सलीमा मजारी अफगानिस्तान में अब तक देखी गई केवल तीन महिला राज्यपालों में से एक थीं। ऐसे समय में जब कई अफगान प्रांत बिना किसी लड़ाई के ढह गए, सलीमा ने बल्ख प्रांत में चाहर किंट को सुरक्षित रखने के लिए हर संभव कोशिश की और अंत तक संघर्ष किया।