1 अगस्त को शुक्र ग्रह राशि परिवर्तन होगा, इन राशियों को मिलेगी शुभ सूचना

0
26
shukra-grah

शनिवार, 1 अगस्त को सुबह 6.43 बजे असुर गुरु शुक्र अपनी राशि को छोड़कर, परम मित्र बुध के राशि चक्र में प्रवेश करेंगे और 31 अगस्त तक यहां रहेंगे। यहां राहु और बुध द्वारा असुर गुरु का स्वागत किया जाएगा । शुक्र की दो राशियाँ हैं – वृषभ और तुला। भरणी, पूर्वा फाल्गुनी और पूर्वाषाढ़ा इनके नक्षत्र हैं। संगीतकार, नाटककार, फिल्मी लोग, वाहन कार्यकर्ता, चित्रकार, गायक और राजनेता शुक्राचार्य बनाते हैं।

भृगु ऋषि उनके पिता हैं। उनकी दो पत्नियां हैं – पितरों की पुत्री गो और देवराज इंद्र की पुत्री जयन्ती। अपने शत्रु देवगुरु बृहस्पति के मीन राशि में जाने से शुक्र को सबसे अधिक बल मिलता है। उनकी कमजोर स्थिति को कन्या राशि में माना जाता है। उनकी मित्रता बुध, राहु और शनि के साथ है। ये मालवीय महापुरुष राजयोग बनाते हैं।

ये भी पढे -  17 जुलाई को संयुक्त राष्ट्र (UN) में भाषण देंगे PM मोदी, UNSC में जीत के बाद पहला संबोधन

shukra-grah

शुक्र प्रेम विवाह की सफलता और असफलता में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। ये वृष, मिथुन, कन्या, तुला, मकर और कुंभ लग्न वालों को उत्तम फल प्रदान करते हैं। इन आरोहियों में उन्हें राज योग कारक कहा जाता है। देवराज इंद्र को उनका वर्चस्व माना जाता है। स्वयं भगवान शिव ने उन्हें मृत संजीवनी विद्या प्रदान की है।

आइए जानते हैं मिथुन राशि में प्रवेश करने के 12 राशियों पर शुक्र का प्रभाव

मेष, वृषभ, मिथुन, कर्क, तुला, वृश्चिक, कुंभ और मीन

इन सभी लोगों को हर तरह का आनंद मिल सकता है। रुका हुआ पैसा मिलने की प्रबल संभावना है। मित्रों से मिलने का अवसर मिलने वाला है। संतानहीन व्यक्ति को संतान सुख मिल सकता है। संपत्ति के विवाद हल हो सकते हैं। विदेश यात्रा का प्लान कर सकते हैं। पदोन्नति आदि की संभावना है। धन संबंधी प्रयास सफल हो सकते हैं। बीमारी आदि का भय समाप्त होगा। परिवार में शुभ सूचना मिल सकती है।

ये भी पढे -  19 August 2020 Love and Business Rashifal (Horoscope in Hindi)- बुधवार 19 अगस्त लव लाइफ और बिज़नस राशिफल

सिंह, कन्या, धनु और मकर

इन राशि वालों को लेन-देन में समस्या आ सकती है। कर्मचारी परेशान कर सकते हैं। अनुबंध टूट सकता है। नारी शक्ति से सावधान। परिवार के स्वास्थ्य को लेकर तनाव हो सकता है। प्रेम संबंध बिगड़ सकते हैं। आपको पैसों की कमी महसूस होगी। ऑफिस में विवादों से बचें। नौकरी छोड़ने का भय हो सकता है।